मां तुम गलत थी !!

ह**ो फ्रेंड्स गुड मॉर्निंग आप सब कैसे है आई होप आप सब स्वस्थ हैं मस्त हैं नया साल बहुत इंजॉय कर रहे होंगे आज की मेरी पोयम थोडी सी सरकैस्टिक रिलेटेड है सरकस उसमें बहुत सारा जो लोग बुरा कर देते हैं लोगों के साथ और उनको जरा सी भी हिचक महसूस नहीं होती बस हम सब इंसान है और हम सब इंसानों का कर्तव्य है इंसानीयत यही कहती है कि हम सब 1 दूसरे का भला करके अच्छा करके आगे बढ़े न कि किसी को पीछे खींचकर या बुरा करके हम पीछे खुद को भी पीछे करें और सामने वाले को भी पीछे करे बिकज कहते हैं कि जब आप किसी के लिए गड्ढा खोदते हो तो सबसे पहले आप उसमें खुद ही गिरते हो तो बेसिकली यह उससे रिलेटेड 1 सरकैस्टिक पोयम मैंने बनाई है आई होप आप सबको बहुत पसंद आएगी तो पोयम ऐसी है कि माँ तुम गलत थी, मां तुम गलत थी जब तुमने मु मुझे सत्कर्म सिखाया माँ तुम गलत थी जब तुमने मुझे सतकर्म सिखाया वो क्या है न आजकल अच्छे कर्म करने वालों का पल पल मजाक उड़ाया जाता है वो क्या है न आजकल अच्छे कर्म करने वालों का पल पल मजाक उड़ाया जाता है फिर लिखा है मैंने माँ तुम तब भी गलत है, मां तुम तब भी गलत थी जब तुमने मुझे संस्कार और अनुशासन में जीना सिखाया, मां तुम तब भी गलत थी जब तुमने मुझे अनुशासन और संस्कार में जीना सिखाया वो क्या है न आजकल संस्कार में जीने को छोटी सोच का रूपांतर दे दिया जाता है वो क्या है न आज कल अनुशासन में जीने को छोटी सोच का रूपांतर दे दिया जाता है फिर माँ तुम गलत थी मां तुम अब भी गलत हो, जब तुमने मुझे परोपकारी करना सिखाया, मां तुम अब भी गलत हो, जब तुमने मुझे परोपकारी करना सिखाया वो क्या है न दुनिया स्वार्थी है वो क्या है न दुनिया स्वार्थी है है साथ और पार्थ के मायने नहीं समझती हैं वो क्या है न मां दुनिया स्वार्थी है सार्थ और पार्ट के मायने नहीं समझती है इसलिए मां तुम गलत थी फिर लिखा है मैंने मां तुम तुम सच में गलत थी, माँ तुम तुम सच में गलत थी जब तुमने मुझे गम पीना और समता में रहना सिखाया मां तुम तब भी गलत थी जब तुमने मुझे गम पीना और समता में जीवन जीना सिखाया, समता में रहना सिखाया वो क्या है न आजकल गम खाने वालों को और चुप रहने वालों को कमजोर और कायर का नाम दे दिया जाता है वो क्या है न मां आज कल गम खाने वालों को और चुप रहने वालों को कमजोर और कायर का नाम दे दिया जाता है इसलिए मां तुम गलत थी, माँ तुम अब भी गलत हो, जब तुमने मुझे बुरी आदतों को जीवन से दूर रखने का पाठ सिखाया और माँ तुम अब भी गलत हो, जब तुमने मुझे बुरी आदतों को जीवन से दूर रहने का पाठ सिखाया वो क्या है न आज कल के दौर में बुरी आदतों के बिना आपको कोई अपनाता नहीं है वो क्या है न मां आजकल बुरी आदतों के बिना आपको कोई अपनाता नहीं है और पल पल आपको अकेला रहना पड़ता है और पल पल आपको अकेले रहना पड़ता है इसलिए मां तुम गलत थी फिर लिखा है मैंने मां तुम गलत थी मां तुम गलत थी जब तुमने मुझे धर्म कर्म का सबक सिखाया मां तुम गलत थी जब तुमने मुझे धर्म कर्म का का सबक सिखाया वो क्या है ना वो क्या है न मां आजकल कलयुग में धर्म की कोई बात करना नहीं चाहता वो क्या है न मां आजकल कलयुग में धर्म की कोई बात करना नहीं चाहता और कर्म अच्छे और सतकर्म अच्छे से नहीं नाता कोई जोड़ना नहीं चाहता सतकर्म और अच्छी चीजों से नाता को जोड़ना नहीं चाहता तो माँ तुम गलत थी मां तुम गलत थी जब तुम कलयुग के युग में मेरी ऐसी परवरिश कर रही थी मां तुम गलत थी थैंक यू।

#maa #loveformaa #writing #poetry #sarcasm #loveforwriting #writinglove #happiness #sadness #livinglife

mr. Ankit Purohit
@ankit143 · 0:42
ह**ो कहना सही बोल ह आ कहने मां का जो रोल जो अपनी लाइफ में जो रोल है वो सबसे बेस्ट डाइव का 1 बच्चे से 1 जवान तक जवान से लेकर का 1 रेस्पोंसिबल बनाने तक का सारा सफर उनकी जो जिम्मेदारी है वो एकदम अच्छे से आज भी मतलब वो मतलब विदाउट आज भी जो रोल वो एकदम अच्छे से फॉलो मतलब निभा रही है तो यू डूइंग वेरी वेल की विटप थोड़ा सा अलग स्टोरी साथ लेकर आ सकता है बहुत अच्छा किया आपने करते रहिए ऐसे ही ध्यान रखिये खुद का और चलो बढ़िया टेक के पराई सी।